प्रवासी भारतीय दिवस Hindi-English

प्रवासी भारतीय दिवस Hindi-English

प्रवासी भारतीय दिवस

👉 प्रवासी भारतीय दिवस हर साल 9 जनवरी को भारत सरकार द्वारा हर्षोल्लास से मनाया जाता है । इसी दिन सन्‌ 1915 महात्मा गांधी जी दक्षिण अफ्रीका से भारत आए थे। प्रवासी भारतीय दिवस मनाने की शुरुआत लक्ष्मीमल सिंघवी के द्वारा शुरू हुआ था तथा प्रवासी भारतीय दिवस मनाने की शुरुआत 2003 से आरंभ हुआ तथा पहला प्रवासी दिवस 9 जनवरी 2003 को भारत की राजधानी नई दिल्ली में आयोजित हुआ था। भारत आज ही के दिन विदेशों में बसे प्रवासी भारतीयों से जुड़े विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं जिन्होंने देश के विकास में अहम भूमिका निभाई है।

  • पिछले साल भारतीय प्रवासी दिवस कोरोनावायरस महामारी के कारण वर्चुअल ई आयोजित किया गया था तथा इसका थीम” आत्मनिर्भर भारत में योगदान” पीएम नरेंद्र मोदी द्वारा दिया गया था
  • भारतीय प्रवासी दिवस साल 2003 आयोजन हर साल भारत की राजधानी दिल्ली में दो दिवसीय 7 से 9 जनवरी तक होता रहा है, इस दिन प्रवासी बड़ी तादाद में एक साथ कार्यक्रम का आयोजन करते हैं ऐसा इसलिए क्योंकि प्रवासी भारतीयों को अपने ज्ञान, कौशल, विशेषज्ञता तकनीकता, को साझा करने के लिए प्रोत्साहन तथा एक मंच मिल सके।
  • भारतीय प्रवासी दिवस में साल 2015 में संशोधन करके यह 1 साल में ना मनाने की बजाय 2 साल में सिर्फ एक बार भारतीय प्रवासी दिवस मनाने का प्रस्ताव रखा गया, जिसके बाद आयोजकों ने यह निर्णय लिया कि अब आगे के कार्यक्रम को थीम आधारित रखा जाएगा।
  • ऐसे सम्मेलन दुनिया के हर हिस्सों में रहने वाले प्रवासी भारतीय वर्ग को जोड़ने में बहुत ही सफल और उपयोगी साबित हुई है तथा उन्हें विभिन्न क्षेत्रों में अपने अनुभव को साझा करने में सक्षम बनाती है।
  • पिछले साल राजधानी दिल्ली में प्रधानमंत्री मोदी जी द्वारा प्रवासी भारतीय दिवस की 16वीं बैठक में सम्मेलन वर्चुअल तरीके से आयोजित किया गया था
  • पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई जी ने प्रवासी भारतीय दिवस कार्यक्रम की शुरुआत 2003 में की थी इस अवसर पर आए तीन दिवसीय कार्यक्रम आयोजित किया जाता है तथा इस क्षेत्र में विशेष उपलब्धि प्राप्त करने वाले भारतवंशियों को सम्मानित तथा पुरस्कृत किया जाता है
  • इस दिन को मनाने के पीछे यह मकसद होता है की अपरा प्रवासी भारतीयों को भारत के प्रति अच्छी सोच तथा भावना की अभिव्यक्ति देशवासियों के साथ अच्छा व्यवहार करना तथा सकारात्मक बातचीत के लिए एक मंच उपलब्ध करवाना एक जरूरी विषय है तथा विश्व में सभी अप्रवासी भारतीयों को एक नेटवर्क के माध्यम से बांधना यह भी इसका एक मकसद होता है 
  • भारत के प्रति प्रवासियों को पारिवारिक और प्रभावित करने के लिए तथा विदेशों से आने वाले निवेश के अवसर को बढ़ाने का एक बढ़िया अवसर इसके द्वारा प्रदान होता है।
  • प्रदूषण पर निबंध  (Pradushan Par Nibandh)

निष्कर्ष

दोस्तों अगर आपको हमारा यह लेख पसंद आया हो तो आप हमारे ब्लॉग पेज costudybuddy.com को लाइक तथा अपने मित्रो के साथ शेयर जरूर करे । और आगे भी आप हमारे साथ जुड़े रहना चाहते है तो आप हमारे ब्लॉग पेज costudybuddy.com को अपने ग्रुप में शेयर करके जोड़ सकते है हमारे इस ब्लॉग पेज पर आप सभी के लिए अनेको जानकारिय  उपस्थित है जिसकी जानकारी से आप अपने उज्जवल भविष्व को और उज्जवल बना सकते है

हमारे साथ अंत तक बने रहने के लिए आप सभी का तहे दिल से धन्यवाद

आप सभी का आने वाला हर दिन शुभ हो

  👉 NON-RESIDENT INDIAN DAY(NRI)

Pravasi Bharatiya Divas is celebrated every year on 9 January with great enthusiasm by the Government of India. On this day in 1915 Mahatma Gandhi came to India from South Africa. The beginning of celebrating Pravasi Bharatiya Divas was started by Laxmimal Singhvi and the beginning of celebrating Pravasi Bharatiya Divas started from 2003 and the first Pravasi Divas was organized on 9 January 2003 in New Delhi, the capital of India. India On this day various events related to overseas Indians settled abroad Programs are organized which have played an important role in the development of the country.

  • Former Prime Minister Atal Bihari Vajpayee ji started the Pravasi Bharatiya Divas program in 2003. A three-day program is organized on this occasion and Indian people who have achieved special achievements in this field are honored and rewarded.
  • The purpose behind celebrating this day is that it is an important topic to provide a platform for positive dialogue and to provide a platform for positive dialogue to the NRIs to express their good thoughts and feelings towards India. Binding through a network is also one of its purposes.
  • Indian Pravasi Diwas year 2003 is being organized every year in Delhi, the capital of India, for two days from 7 to 9 January, on this day a large number of diaspora organize events together, this is because the overseas Indians have got their knowledge, skills, expertise and technology. , encouragement and a platform to share.
  • By amending the Indian Pravasi Diwas in the year 2015, instead of celebrating it in 1 year, it was proposed to celebrate the Indian Pravasi Diwas only once in 2 years, after which the organizers decided that now the further program will be themed.
  • Last year Indian Pravasi Diwas was organized virtual e due to coronavirus pandemic and its theme was “Contribution to self-reliant India” given by PM Narendra Modi.
  • Such conferences have proved to be very successful and useful in connecting the diaspora living in all parts of the world and enable them to share their experiences in various fields.
  • Last year, in the 16th meeting of Pravasi Bharatiya Divas by Prime Minister Modi in the capital Delhi, the conference was organized in a virtual way.

conclusion

We hope that you get benefit from the information given by us. If you have any problem related to this, then tell us by writing in the comment box.

Thanku..

Leave a Reply

Your email address will not be published.